डराने के साथ-साथ एक सोशल मैसेज भी देती है ‘छोरी’, फिल्म देखने से पहले पढ़ें रिव्यू।

डराने के साथ-साथ एक सोशल मैसेज भी देती है ‘छोरी’, फिल्म देखने से पहले पढ़ें रिव्यू।

नुसरत भरूचा की पहली हॉरर फिल्म छोरी एमेजॉन प्राइम वीडियो पर रिलीज हो गई है. अगर आप इस फिल्म को देखने का प्लान बना रहे हैं तो पहले पढ़ें ये रिव्यू और जानें कैसी है फिल्म.

स्टार कास्ट : नुसरत भरूचा (Nushrratt Bharuccha), मीता वशिष्ठ (Mita Vashisht), सौरभ गोयल (Saurabh Goyal), राजेश जैस (Rajesh Jais)

कहानी
8 महीने की प्रेग्नेंसी साक्षी (नुसरत भरूचा) और हेमंत (सौरभ गोयल) के साथ हैप्पी मैरिड लाइफ जी रही होती हैं. लेकिन तभी उनकी लाइफ में आता है एक टर्न जब बिजनेस को सेट करने के लिए हेमंत ने जिन लोगों से पैसे लिए थे वो पैसे ना लौटाने पर उन्हें मारने की धमकी देते हैं. इसके बाद दोनों अपना घर छोड़कर कहीं दूर जाने का सोचते हैं. ऐसे में हेमंत का ड्राइवर कजला उन्हें अपने घर लेकर आता है. लेकिन यहां आने के बाद साक्षी की जिंदगी ही बदल जाती है. साक्षी को बुरी शक्तियों का सामना करना होता है और अपने बच्चे को उससे बचाना होता है. अब क्या साक्षी अपने बच्चे को बचा पाएगी या वह भी वहीं उस श्राप में शामिल हो जाएगी, ये तो आपको फिल्म देखकर ही पता चलेगा

रिव्यू
कम किरदार और जबरदस्त थ्रिल और सरप्राइज आपको फिल्म से जोड़ी रखेगी. फिल्म को इस कदर शूट किया गया है कि आपको सब कुछ रियल लगेगा. कैमरा वर्क काफी शानदार है जैसे की जहां हॉरर सीन आता है उस वक्त सही तरीके से कैमरे की मूवमेंट हुई है. फिल्म की स्टोरी लाइन काफी बढ़िया है. इसमें एक सोशल मुद्दे के बारे में भी बताया गया है. छोरी में जितना थ्रिल है उतना ही हॉरर भी जो अब तक रिलीज हुई हॉरर फिल्मों में कम मिलता है.

नुसरत भरूचा ने एक प्रेग्नेंट महिला का किरदार जो अपने बच्चे को बुरी शक्तियों से बचाना चाहती है को बखूबी निभाया है. अपने करियर की शुरुआत एक ग्लैमरस रोल से करने वालीं नुसरत अब अपनी एक्टिंग में काफी पॉजिटिव बदलाव ला रही हैं. हर फिल्म में उनका किरदार अब सिर्फ ग्लैमरस नहीं बल्कि एक स्ट्रॉंग महिला का होता है. फिल्म में नुसरत ने बेहद शानदार काम किया है. नुसरत की मेहनत उनकी एक्टिंग में साफ नजर आ रही हैं. मीता वशिष्ठ ने भन्नो देवी का किरदार बेहद शानदार निभाया है. काफी समय बाद दर्शकों को मीता की परफॉर्मेंस देखने को मिली. मीता ने एक बुरी और अच्छी महिला दोनों के किरदार को बखूबी निभाया.

हेमंत का किरदार निभाने वाले सौरभ गोयल फिल्म में नैचुरल लगे, लेकिन उन्हें स्क्रीन पर ज्यादा समय नहीं मिला. राजेश जैस ने कजला का किरदार अच्छे से निभाया. कम स्क्रीन स्पेस में भी उन्होंने अपनी एक्टिंग से दर्शकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया.

फिल्म के डायरेक्टर विशाल विशाल फुरिया ने एक सोशल सब्जेक्ट से जोड़ते हुए अपनी कहानी बनाई है. साथ ही इसमें उन्होंने हॉरर का तड़का लगाया है जिसमें सभी की शानदार परफॉर्मेंस रही. इसी वजह से छोरी को देखने में मजा आया. साथ ही ये फिल्म आपको सामाजिक बुराइयों के बारे में भी सोचने पर मजबूर करती है जो समय के साथ बनी रहती है.

क्यों देखें
अगर आपको हॉरर फिल्में पसंद हैं तो आप इसे देख सकते हैं. काफी समय से बॉलीवुड में कई हॉरर फिल्में रिलीज हुई हैं, लेकिन उनमें हॉरर की कमी दिखती है. इस फिल्म में आपको वो कमी नहीं दिखेगी.

Rating 4.5

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: